गैर मर्द से चूत चुदाई की कहानियाँ

अपने पति के अलावा किसी गैर मर्द से चूत चुदाई की कहानियाँ

Apne pati ke alawa kisi gair mard se chut chudai ki kahaniyan

Stories about sex relations of girls and ladies with a man not her husband

मेरी चालू बीवी-49

रोज़ी मेरे केबिन में कुर्सी पर बैठी कसमसा रही थी... शादीशुदा मगर बेहद खूबसूरत लड़की... आज सुबह ही मैंने उसकी नंगी चूत और चूतड़ के दर्शन कर लिए थे और इस समय वो कुर्सी पर बैठी थी...

मेरी चालू बीवी-47

उसकी लो वेस्ट जीन्स उसके मोटे गदराये चूतड़ से 3 इंच नीचे तक ही आती है... उसकी कच्छी का काफी हिस्सा दिखता रहता है.. और अब तो उसने बिना कच्छी के पहनी है...

मेरी चालू बीवी-37

इमरान तभी… नलिनी भाभी- अरईए… आररर्र… ए… अंकुर… आअप पप इइइइइइइ… मैं भाभी के दोनों चूतड़ अच्छी तरह मसल रहा था… नलिनी भाभी- ओह अंकुर, तुम कब आ गए… आहहाआ और ये क्या कर रहे हो? अह्हा… देखो अभी छोड़ दो… ये कभी भी आ सकते हैं… उन्होंने खुद को छुड़ाने का जरा भी प्रयास […]

अफ्रीकन सफ़ारी लौड़े से चुदाई-8

कुछ ही देर में पीटर का दोस्त भी ऊपर आ गया और मुझे मेरी गाण्ड के आस पास कुछ मोटा मोटे लण्ड जैसा एहसास होने लगा था। क्योंकि मेरी गाण्ड पीछे की तरफ थी इसलिए अब्दुल आराम से अपना लण्ड घुसा सकता था। और उसने ऐसे किया भी। वैसे भी कौन भला इतनी चिकनी गाण्ड […]

नौकरानी को चोद कर माँ बनाया

मेरा नाम विक्रम है, मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ पर वास्तव में मैं पैदाइशी मोदीनगर का हूँ, वहाँ हमारा पूरा परिवार रहता है। इस समय दिल्ली की एक कंपनी में मैंनेजर की पोस्ट पर काम करता हूँ। मैंने अन्तर्वासना पर प्रकाशित कहानियाँ अभी हाल में ही पढ़नी शुरू की हैं। मुझे काफी अच्छा लगा […]

जीभ से चूत की मालिश

आलोक मित्रों को सादर नमस्कार। आप सब के सामने मैं अपनी नई कहानी प्रस्तुत कर रहा हूँ। उम्मीद है, आप लोग इसको भी उतना ही पसंद करेंगे जितना मेरी पहले की कहानियों को पसंद किया था। आप सबने मेरी पहले की कहानी ‘काम में मजा आया’ आई, फिर  ‘दोबारा काम मिला’, इसने खूब मजा दिया, […]

मेरी चालू बीवी-19

इमरान दुकान से बाहर आते समय मुझे वो लड़की फिर मिली जो मुझे ब्रा चड्डी खरीदने के लिए कह रही थी… ना जाने क्यों वो एक तिरछी मुस्कान लिए मुझे देख रही थी… मैंने भी उसको एक स्माइल दी… और दुकान से बाहर निकल आया… पहले चारों ओर देखा… फिर सावधानी से अपनी कार तक […]

रात भर गैर मर्द से चुदीं

लेखिका : राधिका शर्मा इससे पहले आप लोगों ने मेरी दो कहानियाँ पढ़ी हैं। सहेली का बदला और होली के नशे में। अब एक और सच्ची घटना पढ़िए। हम दो दोस्त हैं। रोज़मर्रा की जिंदगी से तंग आकर हमने नैनीताल घूमने का कार्यक्रम बनाया। हमारी बीवियाँ भी साथ चल रही थीं। नैनीताल में होटल बहुत […]

पूजा को गाण्ड मराने का शौक हुआ

उसकी आँखों में आँसू आने लगे, पर मैं जानता था कि यदि पहली बार में इसे छोड़ दिया तो फिर गाण्ड नहीं मरवाएगी, इसलिए मैं रुका नहीं और लगाता धक्के लगाता रहा और उसकी चूत में भी दो उंगलियाँ घुसा दीं।

माँ-बेटियों ने एक दूसरे के सामने मुझसे चुदवाया-5

रागिनी सब समझ गई और किसी के कहने से पहले बोल पड़ी- आ जाओ रीना, यहाँ तो सब अपने ही हैं और फ़िर तुम अब जिस धन्धे में जा रही हो उसमें जितना बेशर्म रहेगी उतना मजा मिलेगा और पैसा भी।” अब मैं बोला- बिन्दा, अपनी बाकी बेटियों को तुम संभालो अब। मैं और रीना […]

नाम में क्या रखा है-1

On 2014-03-27 Category: पड़ोसी Tags: गैर मर्द

शेक्सपीयर जो अपने आपको बड़ा चाचा चौधरी समझता था, उसने कहा था कि बेशक गुलाब को अगर गुलाब की जगह किसी और नाम से पुकारा जाता तो क्या ? वो ऐसी भीनी भीनी खुशबू नहीं देता लेकिन टेम्स नदी के किनारे अँधेरे सीलन भरे कमरे में बैठ सिर्फ सस्ती रांडों को उधारी में चोद कर […]

बदले की आग-10

गीता बोली- इसे तो 3-3 लण्डों से पिलवाना पड़ेगा, तब सुधरेगी यह। उसके बाद हम सब नंगे होकर प्रेम से चाय पीने लगे। मैंने मुन्नी के गले में हाथ डालते हुए कुसुम की तरफ देखते हुए कहा- मुन्नी, तुम्हें एक वादा करना होगा ! मुन्नी बोली- राकेश, तुमने मुझ पर इतने अहसान किये हैं, तुम […]

पार्क से बेड तक का सफ़र

दोस्तो, मैं अन्तर्वासना 5 साल से नियमित रूप से पढ़ता हूँ। यह मेरी पहली कहानी है। आशा करता हूँ आप सबको पसंद आएगी। मैं गुजरात का रहने वाला हूँ। मैंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई राजकोट(गुजरात) से पूरी की है और फ़िलहाल में बड़ोदरा में जॉब कर रहा हूँ। मेरी उम्र 23, 5.7 लम्बा और गोरा-चिट्टा हूँ। […]

बदले की आग-9

कुसुम रो पड़ी। गीता ने आगे बढ़कर उसके आंसू पौंछे और बोली- जब खुद की चुदती है तो आँसू आते ही हैं, और जब दूसरे की चुदती है तो मज़ा आता है। एक दिन की बात है, मुन्नी और मैं तो चुद ही चुकी हैं, अब तेरी बारी है थोड़ा मज़ा लेंगें, उसके बाद हम […]

बदले की आग-6

अगले दिन मुन्नी के पति वापस आ गए और 5-6 दिन बिना किसी हंगामे के निकल गए। भाभी मुझसे बहुत खुश थीं और उन्होंने मुझे अपनी चूत का फ्री लाइसेंस दे दिया था। हर 2-3 दिन में एक बार उनकी चूत मार लेता था। मुन्नी-भाभी की दोस्ती हो गई थी, जब मैं घर वापस आता […]

बदले की आग-5

गीता भाभी आहें भरने लगीं, उनकी चुदाई शुरू हो गई थी, स्तनों को दबाते हुए चूत धक्के पर धक्के खा रही थी, गीता चुदाई का मज़ा ले रही थी। थोड़ी देर बाद उसकी चूत और मेरे लण्ड ने साथ साथ पानी छोड़ दिया। भाभी को सीधा कर मैंने अपनी बाँहों में चिपका लिया, मेरे से […]

बदले की आग-4

मैं घर चार बजे पहुँच गया, भाभी को जब मैंने यह सब बताया तो उनकी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा, उन्होंने मुझे बाहों में भर लिया और मेरी तीन चार पप्पी ले लीं। उसके बाद हम लोगों ने आपस में योजना बनाई कि भाभी की बेइज्ज़ती का बदला कैसे लेना है। मैंने भाभी से पूछा- […]

बदले की आग-1

मेरा नाम राकेश है, मेरी पढ़ाई के बाद मुंबई में दस हजार रुपए की मेडिकल रेप्रिजेंटटिव की नौकरी लग गई थी। मुझे औरतों को पटा कर और फंसा कर चोदने का शौक था। पाँच-छः औरतें पढ़ाई के समय से फंसी हुई थी, महीने में 4-5 बार उनसे चुदाई का मज़ा ले लेता था। उनमें से […]

मेरी चूत और गांड दोनों प्यासी हैं-5

सोनू मुझे चूमते चूमते मेरे मम्मे दबा रहा था। मुझे इतना होश तो था कि कोई मेरे मम्मे दबा रहा है पर इतनी हिम्मत नहीं थी कि उसके हाथ हटा दूँ या कुछ बोल पाऊँ। उसके चूसने का अंदाज़ और नशे में होने के कारण मैं तो जन्नत की सैर कर रही थी।

मेरी चूत और गांड दोनों प्यासी हैं-4

हम दोनों एक-दूसरे की ओर करवट लेकर एक-दूसरे को निहार रहे थे। हमारे बीच में थोड़ी सी दूरी थी, पर रणवीर के पैर मेरे पैरों को स्पर्श कर रहे थे। हम दोनों थोड़ी देर एक-दूसरे को देखते रहे।

Scroll To Top