खुले स्थान पर चुदाई की कहानियाँ

खुले स्थान पर जैसे छत पर, समुद्र तट या बाग बगीचे में चुदाई की कहानियाँ

Khuli jagah par jaise garden, beech, road side, chhat par chudai ki kahaniyan

Stroies about sex fucking in the garden, at the beech, or on the roof

एक ही बाग़ के फूल-3

अपने पड़ोस की मां बेटी को मैं पटा चुका था बस चोदना बाक़ी था. एक दिन उनका लड़का मेरे घर आया तो मौक़ा कुछ ऐसा बना कि सेक्स की बात होने लगी. फिर मैंने क्या किया?

कॉलबॉय के साथ अमेरिका में सुहागरात का मजा-3

मैं अपने काल बॉय के साथ होटल के स्विमिंग पूल में सेक्स करना चाहती थी तो उसके साथ बिकिनी में मैं पूल पर आ गयी. वहां मैंने नंगी होकर कैसे सेक्स का मजा लिया?

नया दिन नया सफर

मेरे देवर ने मुझे किसी लड़के से बात करते पकड़ लिया तो मेरी चुदाई बंद हो गयी. मेरी चूत लंड के लिए तड़पने लगी. मुझे मेरी वासना की पूर्ति के लिए लंड कैसे मिला?

चूत एक लंड अनेक-1

अन्तर्वासना की कहानी पढ़ कर मेरा मन भी अनजान लड़कों से चूत चुदाई का हुआ तो मैं लोकल बस में लंड ढूँढने निकल पड़ी. बस में मेरे साथ क्या हुआ? पढ़ कर मजा लें.

सड़क पर गर्लफ्रेंड की चुदाई

फेसबुक पर एक लड़की से दोस्ती हुई, बातें बातें हुईं. जब हम पहली बार मिले तो हम कुछ नहीं कर पाये. फिर मैंने सड़क पर गर्लफ्रेंड की चुदाई की ब्रिज के नीचे! कैसे?

बुद्धा गार्डन में दिल गार्डन गार्डन

मेरी सहकर्मी के साथ सेक्स के बाद हमने दोबारा चुदाई का मौक़ा नहीं मिल रहा था. तभी हमें बुद्धा गार्डन का पता लगा कि वहां चुदाई आराम से होती है. तो ...

मेरे भैया मेरी चूत के सैय्यां-6

बोट पर गांड चुदवाने के बाद मेरी चूत भी अब लंड मांगने लगी थी. मेरी बहन की चूत में भी लंड लेने की प्यास लगी हुई थी. हमने अपनी प्यास को कैसे शांत किया?

मेरे भैया मेरी चूत के सैय्याँ-5

दोस्तो, मैं जैस्मिन साहू आप लोगों के लिए अपनी पिछली कहानी को आगे बढ़ा रही हूं. मेरी कहानी मेरे भैया मेरी चूत के सैय्यां को आप लोगों ने पसंद किया उसके लिए आप सभी का धन्यवाद. उसी कहानी को अब मैं आगे लेकर जा रही हूं. काफी लोगों के मेल मुझे मिले जिसमें उन्होंने कहानी […]

बस के सफर में मिला लंड

मैं बहुत ही बिगड़ैल हो चुकी थी, मुझे चुदाई का शौक लग गया। एक बार मैं बस का सफर कर रही थी तो मुझे बस में एक लंड मिल गया. मैंने उससे कैसे चूत चुदवाई.

गाँव की भाभी को खेत में चोदा

मैं एक गाँव की भाभी को चोद चुका था. उसकी बहन ने हमें देख लिया था तो वो भी मेरा लंड लेना चाहती थी. मैंने उन दोनों भाभी को खेत में एक साथ नंगी करके कैसे चोदा?

छत पर पड़ोसन भाभी की चुदाई देखी

मैं छात्रावास में रहता था. एक रात मैं छत पर घूम रहा था तो साथ वाले घर की छत पर एक पति पत्नी आये और चरों तरफ देखने लगे. मैं छिप गया. फिर बाद में मैंने क्या देखा?

ट्रेन में शादीशुदा लड़की की चुत चुदाई

मेरी हिंदी देसी सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मुझे ट्रेन में एक शादीशुदा लड़की ने सीट दी और उसके बाद हम दोनों में दोस्ती हुई. उसके बाद बात कैसे चुदाई तक पहुंची.

गांडू की बहन की शादी

साली जी, पति का लण्ड तो कल रात मिलेगा और वो तेरी ज़िन्दगी का मेन प्रोग्राम होगा। और हर प्रोग्राम से पहले रिहर्सल होती है, वो अभी होगी तेरी विदाई से पहले।

मेरी बीवी की उलटन पलटन-6

मेरी बीवी का यार मेरे घर आया. मेरी मम्मी भी उसके लंड की शौकीन हैं. हम सब मूवी देखने गए तो हॉल में हमने कैसे वासना का नंगा खेल खेला? पढ़ें इस नोन वेज कहानी में!

याराना का चौथा दौर-5

दोनों दोस्तों ने बीवियों अदला बदली करके चुदाई कर डाली. मेरे साले ने बताया कि उसका दोस्त अब दोस्त की बहन की चुदाई के सपने देखने लगा था. उसका ये सपना पूरा न हो सका.

अदल बदल कर मस्ती-4

राहुल ने शबनम को कॉटेज की मुंडेर पर हाथों के सहारे घोड़ी बनाया और उसका टॉवल सरका कर पीछे से अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया और पहले धीरे फिर तेजी से उसकी चूत चुदाई करने लगा.

मेरी चूत को लगी दूसरे लंड की प्यास

अपने कॉलेज के दोस्त से मैं चुदाई का अनुभव ले चुकी थी. अब मेरी नजर उसके एक सीनियर दोस्त पर थी. क्योंकि मेरी चूत को अब दूसरे लंड की प्यास लगने लगी थी.

मेरी कामवासना और दीदी का प्यार-3

दीदी के अंदर आग बहुत थी, मैंने उनकी चूत चाटते-चाटते धीरे से अपनी दो उँगलियाँ दीदी की गीली चूत के अन्दर डाल दी. उनके मुंह से एक चीख निकल गयी.

रिश्तों में चुदाई स्टोरी-15

भले ही महेश अपनी बेटी की चूत और गांड चोद चुका था लेकिन उसका मन अपनी बहू के लिए तरसता रहता था. उस दिन जब उसकी बहू नीलम घर पर अकेली थी तो ...

उत्तेजना की चाहत बन गयी शामत-1

मैं बीवी संग गोवा घूमने गया. वहां खुले विचारों वाले सेक्सी कपल से दोस्ती हुई. तो दोनों ही मर्दों की नज़र अपनी बीवी की बजाय दूसरे की बीवी पर ज्यादा ठहर रही थी. वहां पर क्या हुआ?

Scroll To Top